Aug 22, 2012

अपने जैसा मुझको भी पत्थर का इक दिल दे दे ,
राह चलूँ न , पहुँच भी जाऊं ऐसी मंजिल दे दे

घूमता फिरूं हवाओं में, वादियों में टहलू
पास समंदर के रहूँ ऐसा एक साहिल दे दे





0 comments:

Post a Comment