Dec 21, 2011

Ameer Minai - Unki Hasrat

उस की हसरत है की दिल से मिटा भी न सकू
ढूँढने उस को चला हूँ जिसे पा भी न सकू

दाल के ख़ाक मेरे खून पे कातिल ने कहा
कुछ यह मेहँदी नहीं मेरी के मिटा भी न सकू

ज़ब्त कमबख्त ने और आ के गला घोटा है
के उसे हाल सुनाऊ तों सूना भी न सकू

उस के पहलू में जो लेजा के सुला दूँ दिल को
नींद ऐसी आये के उसे जगा भी न सकू

बेवफा लिखते है वों अपनी कलम से मुझ को
ये वो किस्मत का लिखा है जो मिटा भी न सकू

0 comments:

Post a Comment